विस्थापित लोगों की पीड़ाओं से अवगत होना हो तो पढ़ें 'अरण्य वाणी' का जुलाई अंक : अविनाश देव |Monthly magazine 'Aranya Vani'

Dhananjay Tiwari
By -
0

पलामू ज़िले के नावाहाता स्थित ख्यातिप्राप्त संत मरियम आवासीय विद्यालय परिसर में पलामू से निकलने वाली मासिक पत्रिका 'अरण्य वाणी' के जुलाई : 2024 अंक का विमोचन किया गया। विमोचन करने वालों में विद्यालय के चेयरमैन अविनाश देव, पत्रिका के संपादक विनोद सागर, विद्यालय के प्रधानाचार्य कुमार आदर्श, साहित्यिक संस्था 'मौसम' के सचिव मनोज कुमार प्रजापति, विद्यालय की शिक्षिका अंजू मैम एवं प्रिया मैम ने संयुक्त रूप से किया। मौक़े पर विद्यालय के चेयरमैन अविनाश देव ने कहा कि मासिक पत्रिका 'अरण्य वाणी' का नियमित प्रकाशन, पत्रिका के संपादक एवं उनकी पूरी टीम की अथक मेहनत को दर्शाता है। सीआरपीएफ कैंप में 'अरण्य वाणी' पत्रिका के जून : 2024 अंक के विमोचन की तस्वीरों से बना जुलाई अंक का यह आवरण इस बात को दर्शाता है कि पत्रिका का स्तर ज़मीन से आसमान तक पहुँच चुका है। साथ ही, उन्होंने यह भी कहा कि यह पत्रिका समसामयिक विषयों पर केंद्रित होती है, जिस कारण इसे परिवार के हर सदस्य बड़े ही चाव से पढ़ते हैं, इसे हम पारिवारिक पत्रिका का भी दर्ज़ा दें तो अतिशयोक्ति नहीं होगी। आगे उन्होंने पत्रिका का अध्ययन करते हुए कहा कि पत्रिका की पहली कहानी जलपाश विस्थापन का दंश झेल रहे लोगों के जीवन पर केंद्रित यह कालजयी कहानी है। अगर किसी को भी विस्थापित हुए लोगों की पीड़ाओं से अवगत होना हो तो कृपया वे 'अरण्य वाणी' के जुलाई : 2024 का अध्ययन अवश्य करें। इस मौक़े पर विद्यालय के प्रधानाचार्य कुमार आदर्श ने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है कि हर वर्ष 'अरण्य वाणी' के 12 अंकों में से कम-से-कम से 03-04 अंकों का विमोचन हमारे विद्यालय परिसर में होते आ रहा है। हम विनोद सागर जी एवं उनकी पूरी टीम को इस साहित्य-धर्मिता को निरंतर बनाए रखने के लिए हार्दिक शुभकामनाएँ देते हैं।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें (0)