It is not possible to live without water: पानी एक ऐसी मूलभूत जरूरत है जिसके बगैर किसी भी प्राणी का जीवन यापन करना संभव नहीं है : आशीष भारद्वाज

Dhananjay Tiwari
By -
0

पलामू।
पानी एक ऐसी मूलभूत जरूरत है जिसके बगैर किसी भी प्राणी का जीवन यापन करना संभव नहीं है और जब बात पीने के पानी की हो तो यह जीवन के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण हो जाता है।आप एक ऐसी भयावह स्थिति कि कल्पना कीजिए जब आपके आसपास हर जगह पीने का पानी सूख चुका है ऐसे में जीवन यापन असंभव हो जाएगा। कुछ यही आलम है हमारे नगर निगम क्षेत्र मेदिनीनगर की जहां लगभग घरों के पेयजल स्रोत सूख चुके हैं , त्राहिमाम मचा हुआ है। व्याप्त भीषण पेय जल संकट के संबंध में शहर के बैरिया स्थित होटल क्राउन प्लाजा में पत्रकार वार्ता किया गया। पत्रकारों को संबोधित करते हुए शहर का आवाज बन चुके युवा चेहरा आशीष भारद्वाज ने कहा कि हम सौभाग्यवान हैं कि हमारा शहर मेदिनीनगर तीन नदियों से ओरंगा ,  कोयल तथा अमानत से घिरा हुआ है हमारे शहर के एक तरफ केचकी मे ओरंगा व कोयल नदी का संगम है तो दूसरी और सिंगरा में कोयल अमानत नदी का संगम है इसके बावजूद भी हम दुर्भाग्यशाली हैं कि हमारा शहर संपूर्ण रूप से ड्राई जॉन हो चुका है , इसका सिर्फ एक कारण है सरकारी उदासीनता। मैंने वर्ष 2020 से पेय जल स्वच्छता मंत्री से लेकर सभी सक्षम पदाधिकारी को पत्राचार कर इस संकट से अवगत कराया है पर किसी ने इस पर संज्ञान नहीं लिया।हमारा शहर मेदिनीनगर प्रमंडलीय मुख्यालय के साथ-साथ एक नगर निगम क्षेत्र भी है , इसके बावजूद भी हमें पानी के बगैर तड़पकर मरने को अपने हाल पर छोड़ दिया गया। ऐसे में हम 12 जून से इस भीषण पेय जल संकट के निदान हेतु शहर वासियों के डोर टू डोर जाकर इस संकट के निवारण हेतु परामर्श लेंगे। इस पानी यात्रा के दौरान हम उनका  जन-जागरण सह हस्ताक्षर अभियान चलाएंगे। जिसमें कोयल/ अमानत नदी पर बांध बनाकर पानी रोक कर शहर वासियों को पानी देने से लेकर सकेंड फेस पाइपलाइन को त्वरित चालू करना , तालाबों ,आहर , पोखर का जीर्णोद्धार व अतिक्रमण मुक्त कराना , सोखता निर्माण , घरों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग को कंपलसरी कराना जैसे मांग होंगे। जिसे लेकर अभियान के पश्चात मुख्यमंत्री झारखंड सरकार से मिला जाएगा अगर सरकार ने पानी के इस ज्वलंत संकट पर संज्ञान नहीं लिया तो एक वृहद आंदोलन किया जाएगा। मौके पर समाजसेवी मनीष सिंह, पिंकु तिवारी, नवीन तिवारी, साहेब जी नामधारी, एनबी सिंह , शैलेश तिवारी, चंदन तिवारी, बबलू चावला, मज़दूर नेता राकेश सिंह, शशांक सुमन, मनीष तिवारी, ज्ञानेश तिवारी, आकाश विश्वकर्मा, दीपक प्रसाद, राहुल गुप्ता, संजीत तिवारी, राकेश तिवारी,अरुण कुमार सिंह, राकेश चौधरी उपस्थित रहे।

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें (0)